खुद पे यकीन रखें सब अच्छा होगा ! | Believe yourself everything will be good.

आसमान से गिरने के बाद जमीं पर टिक पाना बहुत मुश्किल होता है | अचानक ही चारो ओर से समस्याएं हमला करती हुई नजर आती है | ये बात सही है की बुरा वक्त कह कर नहीं आता, पर यह जिंदगी को जीत के कई फलसफे जरूर सीखा देता है | खुद पे यकीन रखें सब अच्छा होगा ( Believe yourself everything will be good.)





थामस एडिसन (Thomas Edison) के बारे में आप सभी को पता ही होगा | सन. 1914 में उनकी फैक्ट्री आग में जल कर राख हो गई | उस समय वे 67 साल के थे | वो बूढ़े हो चले थे और फैक्ट्री की बीमा बहुत कम पैसे का था | इसके बावजूद अपनी जिंदगी भर की मेहनत को धुंआ बनते देखकर उन्होंने कहा " यह बर्बादी तो बहुत कीमती है | हमारी सारी गलतियाँ इस फैक्टरी के साथ जल कर राख हो गई | ये हार हमें और बेहतर करने का मौका देगा | उन्होंने कहा "मै ईश्वर को धन्यवाद देता हूँ कि उसने हमें नहीं शुरुआत करने  दिया |" उस तबाही के तीन हप्ते बाद ही, उन्होंने फोनोग्राफ (Phonograph) का आविष्कार किया | वाह: क्या शानदार नजरिया था | 

थॉमस एडिसन की तरह ही हेनरी फोर्ड भी 40 की उम्र में दिवालिया हो गए थे पर उन्होंने भी हार नहीं मानी और अपनी मेहनत और लगन से फोर्ड मोटर कंपनी को दुनियाँ की सबसे बेहरीन कंपनी बनाया | 

इनलोगों की सफलता के पीछे कई असफलता छिपी हुई है पर वो अपनी असफलता का अबलोकन कर उससे सीखते हुए आगे बढ़ते गए | 

अगर आप हार को सिर्फ हार के ही रूप में देखते है तो यकीन मानिये आप कभी जीत ही नहीं सकते | चाहे कोइ भी नाकामयाबी हो, वो कामयाबी के एक नए द्वार जरूर खोल देती है | 

क्या हमारी एक या दो असफलता निर्धारित करती है कि हम असफल हो गए ! बिलकुल नहीं, असफलता हमें सिखाती है कि अगली बार और अच्छे ढंग से उस काम को किया जाए | इस बार पुराने अनुभव भी आपको बहुत काम आने वाला है | बस अर्जुन की तरह आपकी भी नजर सिर्फ व सिर्फ अपने लक्ष्य पे रखते हुए काम को करते रहना चाहिए |


बस अपना नजरिया सटीक और सही रखे | यकीन रखें सब अच्छा होगा 


धन्यवाद ||
Previous
Next Post »